मुख्य समाचार

सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट: दिसंबर 2022 तक तैयार हो जाएगा प्रधानमंत्री का नया आशियाना; लॉकडाउन में भी कंस्ट्रक्शन जारी



Hindi NewsNationalNarendra Modi; Central Vista Project Update | Prime Minister’s New Residence Will Be Ready By December 2022

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली17 मिनट पहले

Advertisement

कॉपी लिंकसेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट के तहत बनाए जा रहे प्रधानमंत्री के नए आवास का मॉडल। - Dainik Bhaskar

सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट के तहत बनाए जा रहे प्रधानमंत्री के नए आवास का मॉडल।

प्रधानमंत्री का नया आवास दिसंबर 2022 तक बनकर तैयार हो जाएगा। इसे सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट के तहत तैयार किया जा रहा है। देश इस वक्त महामारी से जूझ रहा है। देश के ज्यादातर राज्यों में लॉकडाउन है, लेकिन सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट में कंस्ट्रक्शन जारी है। प्रोजेक्ट को पर्यावरण संबंधी तमाम मंजूरियां मिल चुकी हैं और ‘आवश्यक सेवा’ अधिनियम में रखा गया है। लिहाजा, यहां निर्माण कार्य नहीं रोका गया है।

सरकार की हरी झंडीविपक्ष के ऐतराज के बावजूद सरकार ने इसी हरी झंडी दी थी। प्रोजेक्ट की टाइम लाइन का सख्ती से पालन करने के आदेश हैं। सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट के तहत जो बिल्डिंग्स अगले साल तक बनकर तैयार होंगी, उनमें प्रधानमंत्री आवास शामिल है। फिलहाल, प्रधानमंत्री 7, लोक कल्याण मार्ग पर रहते हैं। यूपीए सरकार के दौर तक इसे 7, रेसकोर्स रोड कहा जाता था।

उप राष्ट्रपति और SPG का हेडक्वॉर्टर भीअगले साल दिसंबर तक जो नई बिल्डिंग्स तैयार होंगी उनमें प्रधानमंत्री आवास के अलावा उनकी सुरक्षा में तैनात स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप का हेडक्वॉर्टर भी शामिल है। ब्यूरोक्रेट्स के लिए एक एग्जीक्यूटिव एनक्लेव भी इसी दौरान बनकर तैयार हो जाएगा।

इस प्रोजेक्ट में उप राष्ट्रपति का आवास भी शामिल है। ये अगले साल मई तक तैयार हो जाएगा। सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट पर कुल मिलाकर 13 हजार 450 करोड़ रुपए खर्च होंगे। प्लान के मुताबिक, प्रोजेक्ट में 46 हजार लोगों को रोजगार मिलेगा।

विपक्ष का विरोधविपक्षी दल नए संसद भवन, सरकारी ऑफिस और प्रधानमंत्री आवास बनाए जाने का विरोध करते रहे हैं। सोशल मीडिया पर भी लोगों ने इस प्रोजेक्ट का यह कहते हुए विरोध किया कि महामारी के दौरान इसको रोक दिया जाना चाहिए। कुछ लोगों का कहना है कि इस दौरान हॉस्पिटल्स की परेशानी है। ऑक्सीजन, वैक्सीन और दवाओं की किल्लत है।

प्लान के मुताबिक, 2024 के लोकसभा चुनाव के पहले दिल्ली में सरकारी इमारतें और कुछ आवास बनाए जाने हैं। इसके लिए राष्ट्रपति भवन से इंडिया गेट तक का चार किलोमीटर का क्षेत्र चुना गया था। पिछले दिनों राहुल गांधी ने सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट को गैरजरूरी बताया था। सरकार ने यह कहते बचाव किया कि पुरानी इमारतें जर्जर हो चुकी हैं। इस प्रोजेक्ट को सुप्रीम कोर्ट में भी चुनौती दी गई थी, लेकिन सर्वोच्च न्यायालय ने भी इस पर रोक लगाने से इनकार कर दिया था। सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि यह प्रोजेक्ट एनवॉयर्नमेंटल या लैंड-यूज रिफॉर्म्स के खिलाफ नहीं है।

क्या है सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट?राष्ट्रपति भवन, मौजूदा संसद भवन, इंडिया गेट और राष्ट्रीय अभिलेखागार की इमारत को वैसा ही रखा जाएगा। सेंट्रल विस्टा के मास्टर प्लान के मुताबिक पुराने गोलाकार संसद भवन के सामने गांधीजी की प्रतिमा के पीछे नया तिकोना संसद भवन बनेगा। यह 13 एकड़ जमीन पर बनेगा। इस जमीन पर अभी पार्क, अस्थायी निर्माण और पार्किंग है। नए संसद भवन में दोनों सदनों लोकसभा और राज्यसभा के लिए एक-एक इमारत होगी, लेकिन सेंट्रल हॉल नहीं बनेगा।

15 एकड़ में बनेगा नया PM आवासमंत्रालयों का साझा केंद्रीय सचिवालय बनाने के लिए शास्त्री भवन, उद्योग भवन, निर्माण भवन, कृषि भवन सहित कई अन्य इमारतें भी गिराई जाएंगी। सेंट्रल विस्टा पुनर्विकास प्रोजेक्ट में सीपीडब्ल्यूडी (केंद्रीय लोकनिर्माण विभाग) के हालिया प्रस्ताव के मुताबिक प्रधानमंत्री के नए आवासीय कॉम्प्लेक्स में चार मंजिला 10 इमारतें होंगी। प्रधानमंत्री के नए आवास को 15 एकड़ भूमि पर बनाया जाएगा।

खबरें और भी हैं…



Source link

Related posts

अमेरिका संक्रमितों का आंकड़ा 1 करोड़ पार करने वाला पहला देश बना, महामारी की तीसरी लहर की चपेट में

Viral Time

रामचंद्र प्रसाद सिंह बने नए अध्यक्ष, भास्कर ने 7 दिन पहले बता दिया था

Viral Time

31% रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद दिल्ली में तीन गुना ज्यादा टेस्ट होंगे; देश के 9 और राज्यों में भी पॉजिटिविटी रेट तय सीमा से अधिक है

Viral Time

Leave a Comment

टॉप न्यूज़
ब्रेकिंग न्यूज़