Viral Time
Breaking News
अपराधखेलजीवन शैलीटेकदेशब्रेकिंग न्यूज़मनोरंजनविदेशशहर और राज्य

आरएसएस पदाधिकारी व कार्यकर्ताओं के खिलाफ हुआ मुकदमा एक्सपंज: दिल्ली तक गूंजा मामला तो पुलिस ने अफसरों के निर्देश पर हुई कार्रवाई

Hindi NewsLocalUttar pradeshBareillyCase Filed Against RSS Office bearer And Worker: When The Matter Resonated Till Delhi, The Police Took Action On The Instructions Of The Officers

बरेली41 मिनट पहले

कॉपी लिंकआरएसएस पदाधिकारी व कार्यकर्ता के खिलाफ हुआ मुकदमा एक्सपंज। दिल्ली तक गूंजा मामला तो पुलिस ने अफसरों के निर्देश पर हुई कार्रवाई। - Dainik Bhaskar

आरएसएस पदाधिकारी व कार्यकर्ता के खिलाफ हुआ मुकदमा एक्सपंज। दिल्ली तक गूंजा मामला तो पुलिस ने अफसरों के निर्देश पर हुई कार्रवाई।

बरेली में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ ( RSS ) के प्रचारक से मारपीट और अज्ञात संघ के पदाधिकारी और 200 कार्यकर्ता के खिलाफ दर्ज हुआ मुकदमा आखिरकार पुलिस की गले की फांस बन गया। भाजपा नेताओं और संघ की नाराजगी के बाद मामला सीधे दिल्ली पहुंचा। जहां एसएसपी के आदेश पर अज्ञात संघ के पदाधिकारी और 200 अज्ञात कार्यकर्ताओं के खिलाफ मुकदमा एक्सपंज कर दिया गया।

वहीं इस पूरे प्रकरण में थाना प्रभारी सुनील अहलावत को लापरवाह मानते हुए लाइन हाजिर कर दिया है। वहीं संघ प्रचारक के साथ हुई इस घटना पूरे यूपी में अब चर्चा का विषय बन गया है। जिसके बाद यहां के अफसरों द्वारा बरती गई इस लापरवाही पर शासन ने भी नाराजगी जताई है।

संघ प्रचारक पर दबाव बनाने के लिए किया था मुकदमा

सुभाषनगर निवासी आर्येंद्र आरएसएस के प्रचारक हैं। वह मथुरा महानगर के प्रभारी है। गुरुवार रात वह मां को अस्पताल से देखकर लौट रहे थे। सड़क पर साइड देने को लेकर उनका सुभाषनगर थाना के करगैना चौकी इंचार्ज अंकित कुमार से विवाद हो गया था। आरोप है कि अंकित ने उन्हें एक अन्य दारोगा व आधा दर्जन सिपाहियों के साथ बंधक बनाकर पीटा था। जब उन्होंने अपना परिचय दिया तब उन्हें छोड़ा गया था।

मामले की जानकारी आरएसएस कार्यकर्ताओं और भाजपा नेताओं को लगी तो उन्होंने सड़क जाम कर चौकी घेर ली थी। जिसके बाद दारोगा अंकित कुमार को लाइन हाजिर कर दिया गया था। इसके बाद भी संघ पदाधिकारी नहीं माने और मुकदमे की बात पर अड़ गए तो दारोगा अंकित कुमार समेत आठ पुलिसकर्मियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था।

हालांकि दूसरी तरफ पुलिस ने संघ प्रचारक और पीड़ित आर्येंद्र पर दबाव बनाने की नियत से गुपचुप तरीके अज्ञात संघ पदाधिकारी और 200 अज्ञात कार्यकर्ता के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया था। जिसके बाद मामला कम होने के बजाए और बढ़ गया। इस मामले की गूंज पहले लखनऊ फिर दिल्ली तक गई। जिसके बाद एसएसपी के आदेश पर संघ के खिलाफ हुआ मुकदमा एक्सपंज किया गया और इस पूरे मामले में लापरवाही बरतने वाले थाना प्रभारी सुनील अहलावत को लाइन भेज दिया गया।

कार्रवाई से सांसद, विधायक भी नाराज

बरेली पुलिस की इस मामले में जमकर छीछालेदर हो गई है। लखनऊ से लेकर दिल्ली तक के अफसर बरेली की पुलिस की कार्य प्रणाली से नाराज है। वहीं पूर्व केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार भाजपा के सभी विधायक और जिला कार्यकारणी ने नाराजगी व्यकत कर एसएसपी सत्यार्थ अनिरुद्ध पंकज से शिकायत की।

जिसके बाद एसएसपी ने थाना प्रभारी पर गाज गिरा दी। संघ और भाजपा नेताओं का साफ कहना है कि संघ प्रचारक पीड़ित आर्येंद्र पर पुलिस ने दबाव बनाने के लिए मुकदमा दर्ज किया था।

खबरें और भी हैं…

Related posts

गुर्गों से वसूली नहीं करा सकेगी ये फाइनेंस कंपनी….RBI का बड़ा एक्शन, महिंद्रा फाइनेंस पर कसा शिकंजा

गंगा नहाने माँ के साथ गए तीन भाई डूबे, दो बचा लिए गए, एक लापता

cradmin

तांबे के लोटे में पानी पीते हैं तो भूलकर भी न करे ये गलतिया

cradmin

Leave a Comment