मुख्य समाचार

माता-पिता की कब्र के बगल में दफनाए जाएंगे, राहुल गांधी सुपुर्द-ए-खाक में शामिल होंगे

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और गुजरात से राज्यसभा सांसद अहमद पटेल (71) का बुधवार तड़के निधन हो गया था। पटेल 1 अक्टूबर को कोरोना संक्रमित हुए थे। भरूच जिले के पिरामण गांव के रहने वाले अहमद पटेल की इच्छा थी कि उन्हें पिरामण गांव में ही माता-पिता की कब्र के पास दफनाया जाए। इसलिए माता-पिता की कब्र के बगल में ही उनकी कब्र भी बनाई गई है। सुपुर्द-ए-खाक में शामिल होने राहुल गांधी भी गुजरात पहुंच चुके हैं।

पिरामण गांव के मौलवी मौलाना रहमान ने बताया कि दिल्ली से कल रात करीब 8.30 बजे उनकी पार्थिव देह चार्टर्ड प्लेन से वडोदरा लाई गई थी और रात में ही वडोदरा से अंकलेश्वर ले जाया गया था। अंकलेश्वर में उनका शव सरदार पटेल हॉस्पिटल हार्ट इंस्टीट्यूट में रखा गया था। जहां से गुरुवार सुबह पिरामण गांव ले जाया गया। अहमद पटेल का पिरामण गांव से बहुत लगाव था।

माता-पिता के कब्र के बगल में खोदी गई है अहमद पटेल की कब्र।

परिवार में एक बेटा और बेटी
अहमद पटेल राजनीति में काफी कामयाब रहे। हालांकि, उन्होंने इससे परिवार को काफी दूर रखा। अहमद पटेल की 1976 में मेमुना अहमद से शादी हुई थी। उनके बेटे फैजल पटेल बिजनेसमैन हैं और उनका राजनीति से दूर-दूर तक का रिश्ता नहीं हैं। वहीं, बेटी मुमताज की शादी भी वकील इरफान सिद्दिकी से हुई है।

पिता पंचायत के सदस्य थे
मोहम्मद इशाजी पटेल और हवाबेन मोहम्मद की संतान अहमद पटेल का जन्म भरूच के पिरामण गांव में 1949 को हुआ था। पिता भरूच तहसील की पंचायत के सदस्य और तहसील के चर्चित नेता थे। इसी के चलते शुरुआत से ही अहमद पटेल की राजनीति में रुचि रही और पिता ने भी राजनीतिक करियर बनाने में उनकी खूब मदद की।

पिरामण गांव में अहमद पटेल के घर के बाहर जमा गांव के लोग।

28 साल में सांसद बन गए थे
पटेल का जन्म 21 अगस्त 1949 को गुजरात के भरूच जिले के पिरामण गांव में हुआ था। वे 3 बार लोकसभा सांसद (1977 से 1989) और 4 बार राज्यसभा सांसद (1993 से 2020) रहे। उन्होंने पहला चुनाव 1977 में भरूच लोकसभा सीट से लड़ा था और 62 हजार 879 वोटों से जीते थे। तब उनकी उम्र सिर्फ 28 साल थी। 1980 में पटेल भरूच से ही 82 हजार 844 वोटों से और 1984 में 1 लाख 23 हजार 69 वोटों से जीत दर्ज की थी।

पिरामण गांव में अहमद पटेल का घर।

सोनिया गांधी के राजनीतिक सलाहकार थे अहमद पटेल
अहमद पटेल 2001 से सोनिया गांधी के राजनीतिक सलाहकार थे। जनवरी 1986 में वे गुजरात कांग्रेस के अध्यक्ष बने थे। 1977 से 1982 तक यूथ कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष भी रहे. सितंबर 1983 से दिसंबर 1984 तक वे कांग्रेस के जॉइंट सेक्रेटरी रहे। बाद में उन्हें कांग्रेस का कोषाध्यक्ष बनाया गया था।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

पिरामण गांव पहुंची अहमद पटेल की पार्थिव देह।

Related posts

पेरिस में सार्वजनिक जगहों पर मास्क पहनना अनिवार्य, दक्षिण अमेरिकी देश चिली में 10 हजार मौतें; दुनिया में 2 करोड़ से ज्यादा मरीज

Viral Time

एमसीसी के 233 साल के इतिहास में इंग्लैंड की कोनोर पहली महिला अध्यक्ष होंगी, अगले साल 1 अक्टूबर से संगकारा की जगह जिम्मेदारी संभालेंगी

Viral Time

सुप्रीम कोर्ट ने कहा- बोर्ड एग्जाम कैंसिल होने का नोटिफिकेशन जारी करे, दोनों बोर्ड ने कहा- 10वीं-12वीं के रिजल्ट 15 जुलाई तक आ सकते हैं

Viral Time

Leave a Comment

टॉप न्यूज़
ब्रेकिंग न्यूज़