Viral Time
Breaking News
शहर और राज्य

दमन समाज कल्याण विभाग और पुलिस विभाग ने एक 80 वर्षीय वृद्ध महिला को बचाने का सराहनीय काम किया

संघप्रदेश दमन समाज कल्याण विभाग और पुलिस विभाग ने एक सामाजिक कारण और जरूरतमंद लोगों की मदद करके सहयोग और समन्वय की एक मिसाल कायम की है। 29/09/2022, को समाज कल्याण विभाग को रात करीब साढ़े 10 बजे फोन आया कि नानी दमन बस स्टैंड में एक वृद्ध बूढ़ी औरत घूम रही है और उसकी हालत बहुत खराब है। विभाग के वरिष्ठ नागरिक हेल्पलाइन-14567 के फील्ड रिस्पांस ऑफिसर (FRO) के साथ विभाग के अधिकारी तुरंत मौके पर पहुंचे और एक एम्बुलेंस को बुलाया और महिला को मरवड़ सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया।

महिला के पास कोई पहचान पत्र या पहचान का कोई अन्य निशान नहीं थी। और वह दो दिनों तक बोल और अपना नाम भी नहीं बता सकती थी। आखिरकार उसकी तबीयत में सुधार होने के बाद, वह केवल यह बता सकी कि उसका नाम निर्मला पाटिल है और वह महाराष्ट्र के रायगाँव नामक स्थान की रहने वाली है। वरिष्ठ नागरिक हेल्पलाइन के कार्यक्रम प्रबंधक, नानी दमन थाना के एसएचओ सोहेल जीवानी के पास पहुंचे और वृद्ध महिला के परिवार को खोजने के लिए मदद मांगी। SHO सोहिल जीवानी ने सीनियर अधिकारी के मार्गदर्शन में चार अलग-अलग टीम बनाई। यह पुलिस टीम तुरंत हरकत में आई और उसके परिवार और घर का पता लगाने के लिए प्रयास तेज किए । वृद्ध महिला के पास आधार कार्ड या अन्य दस्तावेज़ नहीं थे जिससे महिला के घर और परिवार का पता लगाना चुनौतीपूर्ण था। वृद्ध महिला की भाषा समज नहीं आ रही थी। इसलिए अलग अलग भाषा के जानकार व्यक्ति को बुलाके महिला से बातचीत जारी रखते हुए, ज्यादा से ज्यादा सूचना इकठा की गयी। तत्पश्चात, उसी दिशामे प्रयास जारी रखते हुई महाराष्ट्र के अगल-अगल गाव मे जाके पुलिस टीम ने पूछताछ और खोजबिन जारी रखी। पुलिस टीम ने महाराष्ट्र के संभवित गाव और स्थानो मे जा कर ह्यूमन इंटेलिजेंस को एक्टिव किया। गाव के निवासी से संवाद करके जानकारी जुटाई। आखिरकार महाराष्ट्र पुलिस के PI सागर तिलेकर के साथ जानकारी साजा करके दमण पोलिस की टीमने वृद्ध महिला और उनका परिवार का पता लगा लिया, जो रायगांव, ठाणे के निवाशी थे उनका पता लगा लिया, इस तरह दमन पोलिस को महिला और परिवार का पता लगाने में सफलता मिली। महाराष्ट्र पुलिस की मदद और समन्वय से यह पता चला कि निर्मला पाटिल के बेटे ने जानबूझकर उसे नानी दमन बस स्टैंड पर छोड़ दिया था। पुलिस के दबाव और इसमें शामिल संभावित कानूनीताओं को भांपते हुए, उनके बेटे शशिकांत पाटिल 04/09/2022 को दमन पहुंचे और उन्हें घर वापस ले जाने के लिए अपनी राय व्यक्त की। पुलिस ने उसका बयान लिया और प्रथम दृष्टया यह पाया गया कि उसने जानबूझकर वृद्ध महिला को छोड़ दिया था और उसे उसे वापस लेने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए क्योंकि वह उसे फिर से मरने के लिए छोड़ सकता है। पुलिस ने जांच पूरी कर ली है और अब वृद्धा को वृद्धाश्रम में स्थानांतरित कर दिया गया है दमन और एल्डरलाइन टीम आगे चलकर विकल्प तलाश रही है कि या तो उसे वृद्धाश्रम दमन में रखा जाए या समन्वय में उसे महाराष्ट्र वृद्धाश्रम में स्थानांतरित किया जाए। वरिष्ठ नागरिक हेल्पलाइन- 14567, जरूरतमंद वरिष्ठ नागरिकों की मदद करने के लिए एक राष्ट्रीय हेल्पलाइन है और अगस्त 2021 से केंद्र शासित प्रदेश में चालू है और इसने वरिष्ठ नागरिक पेंशन, बचाव, सरकारी योजनाओं तक पहुंच और परामर्श से संबंधित मामलों में 3000 से अधिक वरिष्ठ नागरिकों की मदद की है। और भावनात्मक समर्थन। कोई भी वरिष्ठ नागरिक जिसे सहायता की आवश्यकता है वह सप्ताह के सभी दिनों में सुबह 08 बजे से रात 08 बजे तक टोल फ्री नंबर 14567 पर डायल कर सकता है और उन्हें हर संभव सहायता प्रदान की जाएगी।

Related posts

गंगा नहाने माँ के साथ गए तीन भाई डूबे, दो बचा लिए गए, एक लापता

cradmin

अखिलेश यादव के सवाल पर मंत्री नंदी का तंज: बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे के निर्माण पर अखिलेश यादव ने किया था ट्वीट

cradmin

आरएसएस पदाधिकारी व कार्यकर्ताओं के खिलाफ हुआ मुकदमा एक्सपंज: दिल्ली तक गूंजा मामला तो पुलिस ने अफसरों के निर्देश पर हुई कार्रवाई

cradmin

Leave a Comment