Viral Time
Breaking News
जीवन शैली

वैज्ञानिकों ने बर्फ में दबे 48,500 साल पुराने ‘जॉम्बी वायरस’ को जिंदा किया

जलवायु परिवर्तन के कारण प्राचीन परमाफ्रॉस्ट का पिघलना मनुष्यों के लिए एक नया खतरा पैदा कर सकता है, शोधकर्ताओं के अनुसार जिन्होंने लगभग दो दर्जन वायरस को पुनर्जीवित किया – जिसमें 48,500 साल पहले एक झील के तल तक जमे हुए भी शामिल थे। कुछ यूरोपीय शोधकर्ताओं ने साइबेरिया में स्थित पर्माफ्रॉस्ट के नमूनों को देखा। उन्होंने पाया कि आइटम बहुत समय पहले के थे। वैज्ञानिकों ने ऐसे तेरह नए विषाणु खोजे हैं जो कई वर्षों तक जमीन में जमे रहने के बाद भी संक्रामक हैं। वैज्ञानिक लंबे समय से चेतावनी दे रहे हैं कि पृथ्वी के पर्माफ्रॉस्ट के गर्म होने से वातावरण में गर्मी को रोकने वाली गैसें निकल जाएंगी। इससे जलवायु परिवर्तन और भी बदतर हो सकता है। अध्ययन में पाया गया कि उपचार का सुप्त विषाणुओं पर बहुत कम प्रभाव पड़ता है। रूस, जर्मनी और फ्रांस के शोधकर्ताओं की टीम ने कहा कि उनके द्वारा अध्ययन किए गए वायरस को फिर से पेश करने का जैविक जोखिम “पूरी तरह से नगण्य” था क्योंकि वे अमीबा रोगाणुओं के लक्षित उपभेदों को संक्रमित करने में सक्षम थे। वैज्ञानिक कह रहे हैं कि जानवरों या इंसानों को संक्रमित करने वाले वायरस को फिर से जिंदा करना पहले के मुकाबले कहीं ज्यादा मुश्किल होगा। वह हमें चेतावनी दे रहा है कि ऐसा होने का खतरा वास्तविक है। कार्य को विभिन्न क्षेत्रों में विभाजित किया जा सकता है।

Related posts

अगर आप भी बढ़ते हुए वचन से परेशान है तो इन चीजों का सेवन ना करें

cradmin

अगर आप बालों में चमक लाना चाहते हैं तो इस देसी उपाय का करें इस्तेमाल

cradmin

वाइट सोर्स पास्ता सबको पसंद होता हे। जानते हे इसकी रेसिपी।

cradmin

Leave a Comment