Viral Time
Breaking News
Politics

भारत जोड़ो यात्रा से पहले राजस्थान में सियासी भूचाल, जानिए गहलोत के बयान के बाद किसने दिया क्या रिएक्शन

  • राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत के खुलेआम सचिन पायलट को गद्दार कहने वाले बयान के बाद राजनीति गरमा गई है। पायलट ने भी उनके इस बयान को खारिज करते हुए कहा कि ‘उन्होंने मुझ पर निकम्मा, निकम्मा और गद्दार होने का आरोप लगाया है, जो निराधार हैं।’ सचिन पायलट ने कहा कि आज हम सबका लक्ष्य सरकार को दोहराना होना चाहिए। गहलोत जी जैसे वरिष्ठ नेता को ऐसे समय में इस तरह का बयान नहीं देना चाहिए। राहुल गांधी की ‘भारत जोड़ो यात्रा जल्द ही राजस्थान पहुंचने वाली है। इस बीच राजस्थान में बढ़ती सियासी सरगर्मी के बीच यहां नेताओं के इस तरह के बयान आ रहे हैं।

सबसे पहले बात करते हैं गहलोत के बयान की

गुरुवार को एक निजी मीडिया चैनल से बात करते हुए गहलोत ने कहा, ‘कैसे विधायक ऐसे व्यक्ति को स्वीकार कर सकता है जिसने बगावत की हो, जिसे गद्दार करार दिया गया हो। वो कैसे सीएम बन सकते हैं? विधायक ऐसे व्यक्ति को मुख्यमंत्री के रूप में कैसे स्वीकार कर सकते हैं? मेरे पास इस बात के सबूत हैं कि हर विधायक को 10 करोड़ रुपये बांटे गए, ताकि राजस्थान में कांग्रेस सरकार को गिराया जा सके।’

गहलोत के बयान के बाद सचिन पायलट ने भी पलटवार किया। इतना ही नहीं कांग्रेस से जुड़े अन्य लोगों ने भी गहलोत के इस्तीफे की मांग की।

पायलट ने कहा- झूठे और बेबुनियाद आरोप लगाने की जरूरत नहीं 

गहलोत के बयान के बाद राजस्थान के साथ दिल्ली में भी हंगामा देखने को मिला। इस पर सबसे पहले सचिन पायलट ने प्रतिक्रिया दी, उन्होंने कहा, ‘मैंने अशोक गहलोत की बात सुनी। उन्होंने इसके पहले भी मेरे बारे में कई बातें कही हैं। इस तरह के झूठे और निराधार आरोप लगाने की आज जरूरत नहीं है। आज जरूरत इस बात की है कि हम पार्टी को कैसे मजबूत कर सकते हैं।’

पायलट ने यह भी कहा कि गहलोत एक वरिष्ठ और अनुभवी नेता हैं। मुझे नहीं पता कि कौन उन्हें मेरे खिलाफ झूठे और बेबुनियाद आरोप लगाने की सलाह दे रहा है। पायलट ने आगे कहा कि आज भारत जोड़ो यात्रा को सफल बनाने की जरूरत है। उन्होंने यह भी कहा कि जब मैं राज्य में पार्टी अध्यक्ष था तब राजस्थान में बीजेपी बुरी तरह हारी थी। हालांकि, कांग्रेस अध्यक्ष ने गहलोत को दूसरा मौका दिया और उन्हें मुख्यमंत्री बनाया। आज हमें फिर से राजस्थान में चुनाव कैसे जीतना है इसकी तैयारी करनी चाहिए।

जयराम रमेश ने दी ऐसी प्रतिक्रिया 

बढ़ते विवाद के बीच कांग्रेस सांसद जयराम रमेश ने भी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा कि अशोक गहलोत वरिष्ठ और अनुभवी नेता हैं। उन्होंने अपने युवा सहयोगी सचिन पायलट के साथ जो भी मतभेद व्यक्त किए हैं, उन्हें दूर किया जाएगा और पार्टी को मजबूत बनाया जाएगा।

गहलोत के बयान के बाद राजस्थान में फिर सियासी तूफान मच गया है. इससे पहले गहलोत खेमे में रहे मंत्री राजेंद्र गुडा ने कहा कि पायलट के पास 90 विधायक हैं, जबकि पायलट समर्थक मंत्री हेमाराम चौधरी ने पायलट को मुख्यमंत्री बनाने की मांग की है। इस हंगामे के बीच राज्य के मंत्री राजेंद्र सिंह गुढ़ा ने सचिन पायलट का समर्थन किया और दावा किया कि अगर 80% विधायक का समर्थन सचिन पायलट को नहीं मिलता हैं तो हम अपना दावा छोड़ देंगे। गुढ़ा ने कहा कि सचिन पायलट से बेहतर राजनेता कोई नहीं है. राजस्थान की सेहत के लिए उनसे बेहतर नेता कोई नहीं हो सकता।

वहीं गहलोत के बयान को गांधी परिवार और कांग्रेस आलाकमान के खिलाफ उठाया गया कदम भी माना जा रहा है। गहलोत के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए आचार्य प्रमोद कृष्णम ने कहा कि यह बयान पायलट के खिलाफ नहीं बल्कि कांग्रेस नेतृत्व के खिलाफ है। गांधी परिवार इसके खिलाफ है। हम गहलोतजी से इस्तीफा देने का अनुरोध करते हैं।

बता दें कि इस बीच राजस्थान प्रभारी अजय माकन ने कांग्रेस अध्यक्ष को पत्र लिखकर यह बताने की कोशिश की है कि बागियों को उनके किए की सजा अभी तक नहीं मिली है। यहां बागियों का मतलब उन नेताओं से है जिन्होंने सितंबर में सचिन पायलट को राजस्थान सौंपे जाने का विरोध किया और गहलोत का समर्थन किया। इन विधायकों ने अजय माकन पर पायलट का पक्ष लेने का भी आरोप लगाया।

कोटा पहुंचे विजय बैंसला, बोले- हम रोकेंगे राहुल गांधी की यात्रा

राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा के राजस्थान पहुंचने से पहले राज्य के हाड़ौती इलाके में बवाल मच गया है। राहुल गांधी की राजस्थान यात्रा को रोकने की चेतावनी देने वाले गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के अध्यक्ष विजय बैंसला कोटा पहुंच गए हैं। इस बीच बैंसला ने कहा कि अगर हमारी मांगें नहीं मानी गईं तो वे आंदोलन करेंगे। उन्होंने कहा कि वह यह देखने के लिए हाडौती आए हैं कि समिति राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा को रोकने के लिए क्या व्यवस्था कर सकती है। वे यात्रा मार्ग को देखकर राजस्थान-मध्य प्रदेश सीमा पर स्थित झालावाड़ जिले में आए हैं। मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा कि सचिन पायलट को मुख्यमंत्री बनाने की बात पहले भी कही गई थी। बैंसला ने कहा कि यह सिर्फ मेरा कहना नहीं है, बल्कि समाज की भावना है. राहुल गांधी की यात्रा को कहां रोका जायेगा इस मुद्दे पर बैंसला ने कहा कि अभी तक पत्ते नहीं खोले हैं।

राज्यवर्धन सिंह राठौर ने सीएम गहलोत को घेरा

वहीं बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता पूर्व केंद्रीय मंत्री और बीजेपी सांसद राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने कांग्रेस सरकार पर जमकर निशाना साधा। सीकर में भाजपा कार्यालय में जन विरोध रैली की तैयारियों की समीक्षा बैठक में शामिल होने पहुंचे राज्यवर्धन सिंह राठौर ने कहा कि राजस्थान के मुख्यमंत्री चार साल से एक ही काम कर रहे हैं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को असफल साबित करने का, जबकि उन्हें यह नहीं पता कि प्रधानमंत्री मोदी को पूरा देश प्यार करता है और आशीर्वाद दे रहा है। इस बीच, राठौर ने राज्य में कानून व्यवस्था की स्थिति पर भी सवाल उठाया।

उपेन यादव के धरपकड के खिलाफ प्रदर्शन 

राजधानी जयपुर में आज युवा राजनीति में भी गर्मी है. बेरोजगार युवकों के नेता उपेन यादव को जयपुर पुलिस ने धोखाधड़ी के आरोप में गिरफ्तार किया है। उपेन की गिरफ्तारी के विरोध में राजस्थान विश्वविद्यालय के अध्यक्ष निर्मल चौधरी ने आज विरोध प्रदर्शन किया। सैकड़ों छात्र श्याम नगर थाने के बाहर विरोध में जमा हो गए। पुलिस की इस कार्रवाई का छात्रों ने विरोध किया। राजस्थान विश्वविद्यालय के अध्यक्ष निर्मल चौधरी का कहना है कि उपेन बेरोजगार युवाओं की आवाज हैं।

उन्हें साजिश के तहत धोखाधड़ी के मामले में आरोपी बनाया गया है। सरकार के इशारे पर युवाओं की आवाज को दबाने का प्रयास किया जा रहा है, जिसे प्रदेश के युवा कतई स्वीकार नहीं करेंगे। जयपुर पुलिस के प्रेस नोट के मुताबिक, उपेन को भू-माफिया करार दिया गया है। इसमें साफ लिखा है कि उपेन फर्जी दस्तावेज बनाकर करोड़ों रुपए की जमीन पर कब्जा कर रहा है। पुलिस ने उपेन के खिलाफ दर्ज 8 मामलों की सूची भी जारी की, जो बेरोजगारी आंदोलन के अलावा दर्ज थे।

Related posts

केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने देहरादून में शैक्षणिक सत्र 2022-23 के लिए राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 का शुभारम्भ किया।

cradmin

हरिद्वार जिला पंचायत की 36 सीटों पर मतगणना पूरी, 8 पर जीत का एलान

cradmin

चिंतन शिविर: आपराधिक घटनाओं पर रोक के लिए नवीनतम तकनीकों का इस्तेमाल जरूरी

cradmin

Leave a Comment