Viral Time
Breaking News
Uncategorized

मेडिकल की आड़ में अवैध अस्पताल चला रहे है फर्जी डॉक्टर, आए दिन ले रहा है मासूमों की जान अनदेखी व लापरवाही का खामियाजा मासूम ग्रामीणों को भुग

मेडिकल की आड़ में अवैध अस्पताल चला रहे है फर्जी डॉक्टर, आए दिन ले रहा है मासूमों की जान

बाड़मेर जिले में लगातार चिकित्सा विभाग की अनदेखी व लापरवाही का खामियाजा मासूम ग्रामीणों को भुगतना पड़ रहा है। पिछले कुछ माह से लगातार फर्जी डॉक्टरों की लापरवाही ग्रामीणों पर भारी पड़ रही है। ऐसे में जिले की ग्राम पंचायत सनावड़ा में मंगलवार को मेडिकल की आड़ में चला रहे अवैध अस्पताल में फर्जी डॉक्टर ने इलाज के दौरान गलत दवाई देने से मासूम बालिका की मौत हो गई। इस दौरान मौके पर बालिका के परिजन व स्थानीय ग्रामीणों की भीड़ जमा हो गई। जिले में डॉक्टर को भगवान का रूप देने वाली आम जनता के शरीर के साथ ही लंबे समय से खिलवाड़ करने वाले डॉक्टर रूपी फर्जी झोलाछाप इन दिनों बड़ी संख्या में बॉर्डर के क्षेत्रों में अपनी अवैध दुकानें चला रहे है। सरहदी क्षेत्रों के गांवों में लगातार बढ़ रहा अवैध झोलाछाप डॉक्टरों का जाल चिकित्सा विभाग और प्रशासन के लिए अनदेखा दृश्य बना हुआ है। इन झोलाछाप पर विभाग न तो कोई कार्रवाई कर रहा है और न ही किसी प्रकार के रोक टोक कर रहा है। इसका फायदा उठाकर ये मेडिकल की दुकान का लाइसेंस लेकर उसकी आड़ में ग्रामीण क्षेत्र की आम जनता के स्वास्थ्य को बिना जांच किए भारी डोज देकर खिलवाड़ कर मनमर्जी की रकम लूट रहे है। इन झोलाछापों की लापरवाही के इलाज़ से बॉर्डर क्षेत्र में कोई मासूमों, बड़े-बुजुर्गों व महिलाओं की जान जाने के मामले सामने आ चुके है। जब इनके खिलाफ कार्रवाई या जांच के बारे में उच्चाधिकारियों या विभाग के नुमाइंदों को पूछा जाता है तो उनका एक ही रटा रटाया जवाब होता है कि हमारे ध्यान में इन प्रकार का मामला नही आया है, पता करवाकर जांच करेंगे। इस प्रकार का जवाब हर घटना घटित होने के बाद विभाग की ओर से दिया जाता है।
गांवों में फर्जी डॉक्टरों का भोले भाले ग्रामीणों पर राज
बाड़मेर जिले के ऐसे कोई उपखण्ड है जिनके ग्रामीण क्षेत्रों मे इन फर्जी झोलाछाप डॉक्टरों की बीमार ग्रामीणों पर इलाज के दौरान हुकूमत चलती है। उनको भारी-भारी ट्रीटमेंट देकर दवाइयों का आदि बना देते है। ऐसे में जिले के कोई उपखंडों सहित चौहटन, इसरोल, गोलियार, लीलसर, धनाऊ, ईटादा, कोनरा, अधरिम तला, मीठे का तला, इटादिया, भोजारिया, गौहड का तला, सेड़वा के सांता, सावा, बुराहान तला सहित कोई ग्रामीण क्षेत्रों में मेडिकल की आड़ में झोलाछाप फर्जी डॉक्टरों का जमा जाल जमा है।
बॉर्डर और ग्रामीण क्षेत्रों में फर्जी डॉक्टर के चलते असली डॉक्टरों का वजूद खतरे में
विभाग को जानकारी होते हुए भी इन झोलाछापों पर कार्रवाई नही होती है। इसके विपरीत ये फर्जी डॉक्टर मेडिकल के लाइसेन्स की आड़ लेकर दुकानों में बीमार अनजान ग्रामीणों का भारी मात्रा में दवाइयों का डोज देकर कर रहे है इलाज। साथ ही शहर में निजी अस्पतालों से ज्यादा रुपए इलाज के लूट रहे है। इन रुपयों से उन फर्जी झोलाछाप डॉक्टरों का ऐश मौझ पूरा होता है। अगर इसी प्रकार इन फर्जी डॉक्टरों की दुकानदारी चलती रही तो एक दिन ऐसा आएगा कि जो सालों मेहनत कर सरकारी परीक्षा पास कर बने डॉक्टर का ग्रामीण क्षेत्रों में वजूद ही समाप्त हो जाएगा।

Related posts

भांजा’ Elon Musk को Twitter खरीदने पर इस तरह से दी बधाई

cradmin

स्वाधीनता संग्राम सेनानियों के वारिसों द्वारा एस. कुलतार सिंह संधावन का सम्मान

cradmin

रात में सोने से पहले इस तेल से करें सिर में मालिश, सुकून भरी नींद आएगी

cradmin

Leave a Comment