Viral Time
Breaking News
Politics

पराली जलाने की घटनाओं से निपटने के लिए नोडल अधिकारियों/क्लस्टर अधिकारियों को दिया गया प्रशिक्षण

पराली जलाने की घटनाओं से निपटने के लिए नोडल अधिकारियों/क्लस्टर अधिकारियों को दिया गया प्रशिक्षण
 पंजाब सरकार के दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए फसलों/अवशेषों को जलाने की घटनाओं को रोकने और निपटने के लिए, जिला प्रशासन मोगा ने जिले में 339 नोडल अधिकारी नियुक्त किए हैं, जिनमें से अनुमंडल निहाल सिंह वाला 39 नोडल अधिकारी हैं। मोगा में, 88 बाघापुराण में और 156 को धर्मकोट में नियुक्त किया गया है। नोडल अधिकारियों के अलावा अनुमंडलवार क्लस्टर अधिकारी भी नियुक्त किए गए हैं।
 उपायुक्त के बैठक कक्ष में आज इन नोडल अधिकारियों एवं क्लस्टर अधिकारियों का प्रशिक्षण लिया गया। इस प्रशिक्षण में उपस्थित लोगों को एटीआर दिया गया। पंजाब प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, फरीदकोट के एसडीओ से ऐप का उपयोग करने की विस्तृत जानकारी। अमनदीप सिंह ने दिया
 प्रशिक्षण में उपायुक्त मोगा सीनियर। कुलवंत सिंह और अतिरिक्त उपायुक्त (जे) श्री सुभाष चंद्रा भी विशेष रूप से उपस्थित थे और उन्होंने सभी नोडल अधिकारियों, क्लस्टर अधिकारियों को निर्देशानुसार पारदर्शी तरीके से काम करने के लिए प्रोत्साहित किया. उन्होंने कहा कि जहां भी सैटेलाइट के जरिए पराली जलाने की घटना की जानकारी हो वहां 48 घंटे के भीतर कार्रवाई की जाए ताकि बढ़ते पर्यावरण प्रदूषण को रोका जा सके. उपायुक्त ने आदेश जारी किया कि जहां कहीं भी उपग्रह आगजनी की घटनाओं की पुष्टि करता है, वहां प्रभावित भूमि की रिपोर्ट भी तैयार की जाए.
 उपायुक्त ने श्रोताओं को बताया कि पराली जलाने की सूचना मिलते ही घटनास्थल का निरीक्षण कर संबंधित पटवारी को मोबाईल एप्लीकेशन के माध्यम से रिपोर्ट/फोटो भेजी जाएगी, जिसके बाद पटवारी इस संबंध में सभी सूचनाएं भिजवाएगा. मोबाइल पर भूमि रिकॉर्ड आवेदन अपलोड करने के बाद इसे क्लस्टर अधिकारी को भेजा जाएगा। रिपोर्ट मिलने के बाद संबंधित तहसीलदार के कार्यालय द्वारा फायर प्लेस के मालिक से चालान काटकर सभी जानकारी मोबाइल एप्लीकेशन पर अपलोड कर दी जाएगी ताकि पूरी रिपोर्ट संबंधित उपमंडल अधिकारी सीपीसी को भेजी जा सके. की धारा 188 के तहत कार्रवाई करने के लिए भेजा जा सकता है प्रत्येक अनुमंडल में गठित टीमें उस अनुमंडल के अनुमंडल दंडाधिकारी के अधीन कार्य करेंगी। अनुमंडल में तैनात पुलिस उपकप्तान अनुमंडल पदाधिकारी के साथ समन्वय स्थापित कर पुलिस विभाग द्वारा की जाने वाली कार्यवाही को क्रियान्वित करेंगे।
 यहां यह भी उल्लेखनीय है कि यह प्रशिक्षण 4 बैचों में पूरे दिन तक चला। पहले बैच का प्रशिक्षण सुबह 11 बजे, दूसरे बैच का दोपहर 12 बजे, तीसरे बैच का दोपहर 2 बजे और चौथे बैच का दोपहर 3 बजे प्रशिक्षण शुरू हुआ.

Related posts

विधायक ने 500 एमए यूनिट की नई एक्स-रे मशीन का उद्घाटन किया

cradmin

योगी आदित्यनाथ बोले: हमारे यहां अपराधी या तो जेल में है या फिर मारे गए।

cradmin

गुजरात – युनिफोर्म सिविल कोड पर बीजेपी पर भड़का विपक्ष

cradmin

Leave a Comment